Rani Durgavati (Ek Balidaan Gatha) in Hindi PDF | रानी दुर्गावती (एक बलिदान गाथा) PDF

पुस्तक का विवरण (Description of Book) :-

पुस्तक का नाम (Name of Book)रानी दुर्गावती (एक बलिदान गाथा) | Rani Durgavati (Ek Balidaan Gatha)
पुस्तक का लेखक (Name of Author)Shankar Dayal Bhardwaj
पुस्तक की भाषा (Language of Book)हिंदी | Hindi
पुस्तक का आकार (Size of Book)1 MB
पुस्तक में कुल पृष्ठ (Total pages in Ebook)93
पुस्तक की श्रेणी (Category of Book)इतिहास / History

पुस्तक के कुछ अंश (Excerpts From the Book) :-

Rani Durgavati (Ek Balidaan Gatha) PDF Summary

उपन्यास की शुरुआत चंदेल के राजपूत राजा कीरत राय की बेटी दुर्गावती के जन्म से होती है। वह एक सुंदर और बुद्धिमान राजकुमारी है, जो अपने पिता से युद्ध और प्रशासन की कला सीखती है। वह हिंदुओं के पवित्र ग्रंथ गीता में भी गहरी रुचि विकसित करती है। वह गोंडवाना के राजकुमार दलपत शाह से शादी करती है और वन साम्राज्य की रानी बन जाती है। वह एक पुत्र वीर नारायण को जन्म देती है, जो सिंहासन का उत्तराधिकारी होता है।

अपने पति की मृत्यु के बाद, दुर्गावती अपने छोटे बेटे की संरक्षिका के रूप में राज्य का कार्यभार संभालती हैं। वह बुद्धि और न्याय के साथ शासन करती है और अपनी प्रजा का प्यार और सम्मान जीतती है। वह पड़ोसी क्षेत्रों को जीतकर अपने क्षेत्र का विस्तार भी करती है। वह किलों, मंदिरों और जलाशयों का निर्माण करती है और व्यापार और संस्कृति को बढ़ावा देती है। वह एक परोपकारी और उदार रानी है, जो अपनी प्रजा के कल्याण की परवाह करती है।

हालाँकि, उसकी समृद्धि और शक्ति मुगल सम्राट अकबर का ध्यान आकर्षित करती है, जो गोंडवाना को अपने साम्राज्य में मिलाना चाहता है। वह अपने सेनापति आसफ खान को राज्य पर आक्रमण करने और रानी को पकड़ने के लिए भेजता है। दुर्गावती ने मुगल सेना का विरोध करने का फैसला किया और भीषण युद्ध की तैयारी की। वह साहस और कौशल के साथ अपने सैनिकों का नेतृत्व करती है और दुश्मन के खिलाफ बहादुरी से लड़ती है। वह मुगलों को भारी नुकसान पहुंचाती है और उन्हें पीछे हटने के लिए मजबूर करती है। वह आसफ खान को भी अपने तीर से घायल कर देती है और उसकी प्रशंसा अर्जित करती है।

हालाँकि, मुगल फिर से संगठित हो गए और एक बड़ी और मजबूत ताकत के साथ दूसरा हमला शुरू कर दिया। दुर्गावती को एहसास होता है कि वह संख्या में अधिक है और उसकी बराबरी नहीं की जा सकती, लेकिन उसने हार मानने से इनकार कर दिया। वह अपने सैनिकों को अंतिम सांस तक लड़ने के लिए प्रेरित करती है और कहती है कि वह आत्मसमर्पण करने के बजाय मरना पसंद करेगी। वह बहादुरी और दृढ़ संकल्प के साथ मुगलों का सामना करती है और उनमें से कई को अपनी तलवार और धनुष से मार देती है। हालाँकि, अंततः वह दुश्मन से घिर गई और घायल हो गई। वह मुगलों के हाथों में पड़ने के बजाय अपना जीवन समाप्त करने का फैसला करती है। वह अपने खंजर से खुद पर वार करती है और शहीद होकर मर जाती है। उसका बेटा वीर नारायण भी अंत तक लड़ता है और अपनी माँ के साथ मर जाता है।

उपन्यास का अंत मुगलों द्वारा मृत रानी को सम्मान देने और उन्हें एक महान योद्धा और शासक के रूप में स्वीकार करने के साथ होता है। अकबर को अपने आक्रमण पर पछतावा हुआ, और उसने दुर्गावती के साहस और सम्मान की प्रशंसा की। उन्होंने आदेश दिया कि उनके शव का पूरे सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाए और उनके लिए एक स्मारक बनाया जाए। वह गोंडवाना पर अपना दावा भी त्याग देता है, और शांति से राज्य छोड़ देता है। उपन्यास का अंत गोंडवाना के लोगों द्वारा अपनी प्रिय रानी की मृत्यु पर शोक मनाने और उसे एक नायक और एक किंवदंती के रूप में मनाने के साथ होता है।

नीचे दिए गए लिंक के द्वारा आप रानी दुर्गावती (एक बलिदान गाथा) बुक PDF | Rani Durgavati (Ek Balidaan Gatha) PDF in hindi डाउनलोड कर सकते हैं ।

Read Also: 1.एकादशोपनिषद | Ekadashopnishad PDF in Hindi 2.रिच डैड पुअर डैड (Rich Dad Poor Dad Hindi) PDF 3.The Compound Effect by Darren Hardy Hindi PDF Book | द कंपाउंड इफ़ेक्ट 4.श्रीमद् देवी भागवत पुराण हिंदी में | Devi Bhagwat Puran PDF 5.Acupressure Book in Hindi PDF | एक्यूप्रेशर चिकित्सा PDF 6.सौंदर्य लहरी हिंदी अर्थ सहित pdf  | soundarya lahari book hindi pdf 7.श्रीमद्भगवद्‌गीता | Shrimad Bhagwat Geeta in Hindi PDF

Download

हमारे टेलीग्राम चैनल से यहाँ क्लिक करके जुड़ें

5/5 - (2 votes)

Leave a Comment