घासीराम कोतवाल | Ghashiram Kotwal Book/Pustak Pdf Free Download

घासीराम कोतवाल | Ghashiram Kotwal

पुस्तक का विवरण (Description of Book) :-

पुस्तक का नाम (Name of Book)घासीराम कोतवाल | Ghashiram Kotwal
पुस्तक का लेखक (Name of Author)विजय तेंदुलकर / Vijay Tendulkar
पुस्तक की भाषा (Language of Book)हिंदी | Hindi
पुस्तक का आकार (Size of Book)6.9 MB
पुस्तक में कुल पृष्ठ (Total pages in Ebook)161
पुस्तक की श्रेणी (Category of Book)नाटक / Drama

पुस्तक के कुछ अंश (Excerpts From the Book) :-

‘घासीराम कोतवाल’ ऐतिहासिक नाटक नहीं है। वह एक नाटक है, सिर्फ नाटक!

नाटक सिर्फ नाटक ही होता है। एक साहित्यिक कलाकृति के सन्दर्भ में यह कहना कि वह ऐतिहासिक है, या पौराणिक है, या सामाजिक है, बेमानी है। समय बहुत जल्दी सामाजिक को ऐतिहासिक और ऐतिहासिक को पौराणिक बना देता है।

फिर भी इस नाटक की सामग्री कच्चा मसाला-इतिहास से बटोरी गई है। इतिहास का क्षीण-सा आधार अवश्य लिया गया है। पर, इसके आगे नाटक का इतिहास से कोई सम्बन्ध नहीं है और यह कच्चा मसाला भी ठीक उसी तरह इतिहास से लिया गया है, जिस तरह समसामयिक जीवन स्थितियों से भी लिया जाता है। महाराष्ट्र में पेशवाओं का राज था, नाना फड़नवीस पेशवा के प्रधान थे, कोई एक घासीराम था, ब्राह्मण थे, मराठा सरदार थे, और ये सब ईकाइयाँ अपने-अपने दायरे में बंधी समय के प्रवाह में लकड़ी के लठ्ठे की भाँति कभी सटकर तो कभी हटकर, कभी परस्पर को छूती तो कभी टकराती अप्रतिहत प्रवाहित हो रही थीं। उनका यह कार्य करण उचित था या अनुचित

1/5 - (2 votes)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *