यामा- महादेवी वर्मा हिंदी पीडीऍफ़ | Yaama by Mahadevi Verma Free Hindi Book

Yama PDF by Mahadevi Verma

यामा ( Yaama ) के बारे में अधिक जानकारी :

पुस्तक का नाम (Name of Book)यामा / Yaama
पुस्तक का लेखक (Name of Author)Mahadevi Verma
पुस्तक की भाषा (Language of Book)हिंदी | Hindi
पुस्तक का आकार (Size of Book)5 MB
पुस्तक में कुल पृष्ठ (Total pages in Ebook)288
पुस्तक की श्रेणी (Category of Book)उपन्यास / Novel

पुस्तक के कुछ अंश (Excerpts From the Book) :-

हिन्दी काव्य का वर्तमान नवीन युग गीतप्रधान ही कहा जायगा। हमारा व्यस्त और व्यक्तिप्रधान जीवन हमें काव्य के किसी और अंग की और दृष्टिपात करने का अवकाश ही नहीं देना चाहता। आज हमारा हृदय ही हमारे लिए संसार है हम अपनी प्रत्येक साँस का इतिहास लिख रखना चाहते हैं, अपनी प्रत्येक कम्पन को अंकित कर लेने के लिए उत्सुक हैं और प्रत्येक स्वप्न का मूल्य पा लेने के लिए विकल है। सम्भव है यह उस युग की प्रतिक्रिया हो जिसमें कवि का आदर्श अपने विषय में कुछ न कह कर संसार भर का इतिहास कहना था, हृदय की उपेक्षा कर शरीर को आहत करना था

इस युग के गीतों की एकरुपत्ता में भी ऐसी विविधता है जो उन्हें बहुत काल तक सुरक्षित रख सकेगी। इनमें कुछ गीत मलयसमीर के झोंके के समान हमें बाहर से स्पर्श कर अन्तरतम तक तिहरा देते हैं, कुछ अपने दर्शन से बोझिल पंसों द्वारा हमारे जीवन को सब ओर से छू लेना चाहते हैं, कुछ किसी अलक्ष्य दानी पर छिपकर बैठी हुई कोकिल के समान हमारे ही किसी भूले स्वप्न की कथा कहते रहते हैं और कुछ मन्दिर के पूत धूप धूम के समान हमारी दृष्टि को धुंधला परन्तु मन को सुरभित किये बिना नही रहते।

कामरेखाओं के मार्ग में बिखरी हुई बदलियों के कारण जैसे एक ही विस्तृत आकाश के नीचे हिलोरें लेनेवाली जलराशि में नहीं छाया और नहीं आलोक का आभास मिलने लगता हूँ उसी प्रकार हमारी एक ही काव्यधारा अभिव्यक्ति की भिन्न शैलियों के अनुसार भिन्न- वर्णी हो उठी है।

नीचे दिए गए लिंक के द्वारा आप यामा ( Yaama PDF ) डाउनलोड कर सकते हैं ।

Download

Please Rate it post