देवीभागवत पुराण | Shreemad Devi Bhagvat Puran PDF in Hindi

Shreemad Devi Bhagvat Puran Hindi

पुस्तक का एक मशीनी अंश:

देवीभागवत पुराण | Shreemad Devi Bhagvat Puran Hindi


देवीभागवत पुराण परम पवित्र वेद की प्रसिद्ध श्रुतियों के अर्थ से अनुमोदित, अखिल शास्त्रों के रहस्यका स्रोत तथा आगमों में अपना प्रसिद्ध स्थान रखता है। यह सर्ग, प्रतिसर्ग, वंश, वंशानुकीर्ति, मन्वन्तर आदि पाँचों लक्षणों से पूर्ण हैं। पराम्बा भगवती के पवित्र आख्यानों से युक्त है। इस पुराण में लगभग १८,००० श्लोक है।

देवी पुराण के पढ़ने एवं सुनने से भयंकर रोग, अतिवृष्टि, अनावृष्टि भूत-प्रेत बाधा, कष्ट योग और दूसरे आधिभौतिक, आधिदैविक तथा आधिदैहिक कष्टों का निवारण हो जाता है। सूतजी ने इसके लिए एक कथा का उल्लेख करते हुए कहा-वसुदेव जी द्वारा देवी भागवत पुराण को पारायण का फल ही था कि प्रसेनजित को ढूंढ़ने गए श्रीकृष्ण संकट से मुक्त होकर सकुशल घर लौट आए थे। इस पुराण के श्रवण से दरिद्र धनी, रोगी-नीरोगी तथा पुत्रहीन स्त्री पुत्रवती हो जाती है। ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य तथा शूद्र चतुर्वर्णों के व्यक्तियों द्वारा समान रूप से पठनीय एवं श्रवण योग्य यह पुराण आयु, विद्या, बल, धन, यश तथा प्रतिष्ठा देने वाला अनुपम ग्रंथ है।

पुस्तक का नाम (Name of Book)देवीभागवत पुराण | Shreemad Devi Bhagvat Puran PDF
पुस्तक का लेखक (Name of Author)हनुमान प्रसाद-Hanuman Prasad, Gita Press
पुस्तक की भाषा (Language of Book)Hindi
पुस्तक का आकार (Size of Book)48
कुल पृष्ठ (Total pages )722
पुस्तक की श्रेणी (Category of Book)Religion & Spirituality
4.8/5 - (5 votes)

Leave a Reply

Your email address will not be published.