कर्ण पिशाचिनी साधना पीडीऍफ़ पुस्तक हिंदी में | Karna Pishachini Sadhana PDF Book In Hindi

कर्ण पिशाचिनी साधना ( Karna Pishachini Sadhana PDF ) के बारे में अधिक जानकारी

पुस्तक का नाम (Name of Book)कर्ण पिशाचिनी साधना / Karna Pishachini Sadhana
पुस्तक का लेखक (Name of Author)अनाम / Anonymous
पुस्तक की भाषा (Language of Book)हिंदी | Hindi
पुस्तक का आकार (Size of Book)3 MB
पुस्तक में कुल पृष्ठ (Total pages in Ebook)5
पुस्तक की श्रेणी (Category of Book)तंत्र विद्या/Tantra Vidya

पुस्तक के कुछ अंश (Excerpts From the Book) :-

छ: माह बीत चुके थे मुझे गांव छोडे हुए। घर की दरिद्रता से विकल होकर मैं जीवन से विरक्त हो चुका था। अक्सर मैं सोचता मेरे पूर्वज उच्चकोटि के ब्राह्मण थे। उनके पास अलौकिक सिद्धियां थीं, ज्योतिष के क्षेत्र में वे अद्वितीय थे । काल को अपने चिन्तन से उन्होंने बांध रखा था, पर आज वे विद्याएं कहां है ?
अपने ब्राह्मणत्व पर लांछन लगते देखना मुझे असह्य था । मैंने तो निश्चय कर लिया था कि मुझे उन विशिष्ट योगियों तक पहुंचना है जिनके पास अलौकिक ज्ञान है, जिनसे मैं कुछ साधनात्मक बल प्राप्त कर सकूं।

अमरकंटक के पास विचरण करते हुए एक दिन मुझे सद्गुरुदेव जी के दर्शन हो गए। कोई साधनात्मक शिविर चल रहा था। मौका देखकर मैंने उनसे भेंट की और अपनी व्यथा से अवगत कराया। मेरे ज्योतिष के प्रति रूझान को देखकर शायद उनका हृदय पसीज उठा, मुस्कुराकर बोले, ‘तू कर्णपिशाचिनी सिद्ध कर ले’ ।
पिशाचिनी का नाम सुनते ही मेरे रोंगटे खड़े हो गये । सुना था कि यह वाममार्गी साधना है और अत्यन्त वीभत्स तरीके से सम्पन्न की जाती है। सारे वैदिक कर्म त्याग देने पड़ते हैं और साधना खण्डित कर देने पर तुरंत मृत्यु हो जाती है। साथ ही -साथ कर्णपिशाचिनी को सिद्ध कर लेने के बाद भी उसकी काम पिपासा शान्त करनी पड़ती है

नीचे दिए गए लिंक के द्वारा आप कर्ण पिशाचिनी साधना / Karna Pishachini Sadhana PDF Hindi Book PDF डाउनलोड कर सकते हैं ।

Download

5/5 - (2 votes)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *