हम्मीरायण | Hammirayan PDF in Hindi

हम्मीरायण

हम्मीरायण ( Hammirayan PDF ) के बारे में अधिक जानकारी

पुस्तक का नाम (Name of Book)हम्मीरायण | Hammirayan
पुस्तक का लेखक (Name of Author)Dr. Dashrath Sharma
पुस्तक की भाषा (Language of Book)हिंदी | Hindi
पुस्तक का आकार (Size of Book)5 MB
पुस्तक में कुल पृष्ठ (Total pages in Ebook)243
पुस्तक की श्रेणी (Category of Book)History

पुस्तक के कुछ अंश (Excerpts From the Book) :-

हम्मीरायण का कथा-भाग कुछ विशेष लम्बा नहीं है। इसे रामायण सेतुलित किया जाए तो शायद यही कहना पड़े कि इसमें लङ्काकाण्ड मात्र ही है । इम्मीर के आरम्भिक जीवन को सर्वथा छोड़ कर इसकी कथा प्रायः अलाउद्दीन और हम्मीर के सघर्ष से ही आरम्भ होती है। संक्षेप में कथा निम्नलिखित है :-

जयतिगदे का पुत्र हम्मीरदे चहुआण रणथंभोर का राजा था। उसका माई वीरम युवराज था और सूरवंशी रणमल तथा रायपाल उसके प्रधान थे । हम्मीर ने प्रधानों को आधी बूंदी गुजारे में और बहुत सी सेना दी थी।

इसी बीच में उल्लूखां के दो विद्रोही सरदार, महिमासाहि औौर मीर ‘गामरू’ उल्लूखाँ की बहुत सी सेना का नाश कर रणथम्भोर भा पहुँचे। हम्मीर ने उन्हें शरण दी, और उन्हें दो लाख वेतन ही नहीं,बहुत अच्छी जागीर मी दी। महाजनों ने इस नीति की कटु आलोचना की। किन्तु हम्मीर ने उनकी मलाइ पर ध्यान न दिया ।

नीचे दिए गए लिंक के द्वारा आप हम्मीरायण ( Hammirayan PDF ) डाउनलोड कर सकते हैं ।

Download

Please Rate it post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *