विक्रमोर्वशी | Vikramorvashi Book/Pustak Pdf Free Download

विक्रमोर्वशी | Vikramorvashi

पुस्तक का विवरण (Description of Book) :-

पुस्तक का नाम (Name of Book)विक्रमोर्वशी | Vikramorvashi
पुस्तक का लेखक (Name of Author)कालिदास / Kalidas
पुस्तक की भाषा (Language of Book)हिंदी | Hindi
पुस्तक का आकार (Size of Book)1.3 MB
पुस्तक में कुल पृष्ठ (Total pages in Ebook)149
पुस्तक की श्रेणी (Category of Book)नाटक / Drama

पुस्तक के कुछ अंश (Excerpts From the Book) :-

महाकवि कालिदास को सर्वसम्मति से भारत का सर्वश्रेष्ठ कवि माना जाता है। उन्होंने अपने महाकाव्यों, नाटकों तथा मेघदूत और ऋतुसंहार जैसे काव्यों में जो अनुपम सौंदर्य भर दिया है , उसकी तुलना संस्कृत साहित्य में अन्यत्र कहीं नहीं मिलती । इसीलिए उन्हें कवि – कुलगुरु भी कहा जाता है। यों संस्कृत में माघ, भारवि और श्री हर्ष बड़े कवि हुए हैं , जिनकी रचनाएँ शिशुपालवध , किरातार्जुनीय तथा नैषधीयचरितम् बृहत्त्रयी अर्थात् तीन बड़े महाकाव्यों में गिनी जाती हैं और कालिदास के रघुवंश , कुमारसम्भव और मेघदूत को केवल लघुत्रयी कहलाने का गौरव प्राप्त है । फिर भी भावों की गहराई , कल्पना की उड़ान तथा प्रसादगुणयुक्त मंजी हुई भाषा के कारण लघुत्रयी पाठक को जैसा रस विभोर कर देती है, वैसा बृहत्त्रयी की रचनाएँ नहीं कर पातीं ।

Please Rate it post

Leave a Reply

Your email address will not be published.