नारद और शांडिल्य भक्ति सूत्र | Narad Aur Shandilya Bhakti Sutra Hindi Book PDF

Narad Aur Shandilya Bhakti Sutra Hindi Book PDF

पुस्तक का विवरण (Description of Book) :-

पुस्तक का नाम (Name of Book)नारद और शांडिल्य भक्ति सूत्र | Narad Aur Shandilya Bhakti Sutra PDF
पुस्तक का लेखक (Name of Author)गीता प्रेस / Geeta Press
पुस्तक की भाषा (Language of Book)हिंदी | Hindi
पुस्तक का आकार (Size of Book)1 MB
पुस्तक में कुल पृष्ठ (Total pages in Ebook)16
पुस्तक की श्रेणी (Category of Book)धार्मिक / Religious

पुस्तक के कुछ अंश (Excerpts From the Book) :-

सा मुख्येतरापेक्षितत्वात् ॥ १० ॥ १०- वह भक्ति मुख्य है; क्योंकि ज्ञानयोगादि इतर साधन उसकी अपेक्षा रखते हैं (अन्य साधन अङ्ग हैं और भक्ति अङ्गी है)।
प्रकरणाच्च ॥ ११ ॥
११- ( छान्दोग्यके) प्रकरण से भी (भक्ति की ही मुख्यता सिद्ध होती है) (क्योंकि वहाँ रतिरूपा भक्तिका ही फल स्वाराज्य सिद्धि) बतायी गयी है।
प्रकरण इस प्रकार है, छान्दोग्योपनिषद् मन्त्र है आत्मैवेदं सर्वमिति स वा एष एवं पश्यन्नेवं मन्वान एवं विजानन्नात्मरतिरात्मक्रीड आत्ममिथुन आत्मानन्दः स स्वराड् भवति। ( ७। २५ । २)
अर्थात् ‘यह सब कुछ परमात्मा ही है; जो ऐसा देखता, ऐसा मानता और ऐसा समझता है, वह परमात्मामें परम अनुराग परमात्मामें ही क्रीडा, उन्होंके संयोगका सुख तथा उन्हींमें आनन्दका अनुभव करता हुआ स्वराट् (परमात्मस्वरूप ) हो जाता है।’ इसमें दर्शन, मनन एवं ज्ञान आदि साधन आत्मरतिरूपा भक्तिके अङ्ग हैं, यह स्वतः स्पष्ट हो जाता हैं।

नीचे दिए गए लिंक के द्वारा आप नारद और शांडिल्य भक्ति सूत्र | Narad Aur Shandilya Bhakti Sutra Hindi Book PDF डाउनलोड कर सकते हैं ।

Download

Please Rate it post

Leave a Reply

Your email address will not be published.