आदर्श संत हिंदी पुस्तक | Adarsh Sant PDF in Hindi

आदर्श संत (Adarsh Sant) के बारे में अधिक जानकारी

पुस्तक का नाम (Name of Book)आदर्श संत / Adarsh Sant
पुस्तक का लेखक (Name of Author)Anonymous
पुस्तक की भाषा (Language of Book)हिंदी | Hindi
पुस्तक का आकार (Size of Book)5 MB
पुस्तक में कुल पृष्ठ (Total pages in Ebook)59
पुस्तक की श्रेणी (Category of Book)Religious

पुस्तक के कुछ अंश (Excerpts From the Book) :-

श्रीविट्ठल पन्तके तीन पुत्र और एक कन्या थी । उनके नाम थे निवृत्तिनाथ, ज्ञानेश्वर, सोपानदेव और मुक्ताबाई । श्रीविट्ठल पन्तने अपने गुरु स्वामी श्रीरामानन्दजीकी आज्ञासे संन्यास लेनेके बाद पुनः गृहस्थधर्म स्वीकार कर लिया था ।

अतः ब्राह्मणोंके आदेशसे अपनी पत्नी श्रीरुक्मिणी बाईके साथ उन्होंने प्रायश्चित्त करनेके लिये प्रयाग त्रिवेणी संगममें देह त्याग – कर दिया। उस समय उनके चारों पुत्र बहुत छोटे थे ।

श्रीविट्ठल पन्त गृहस्थ होकर भी अत्यन्त त्यागका ही जीवन व्यतीत करते थे। उनके देह त्यागके समय उनके घरमें कोई सम्पत्ति नहीं थी । भिक्षा माँगकर ही उनके बालक अपना निर्वाह करते थे

श्रीज्ञानेश्वरका जन्म भाद्र कृष्ण अष्टमी सं० १३३२ में आलन्दीमें हुआ था । उनकी पाँच वर्षकी अवस्थामें ही उनके माता-पिताने देह त्याग कर दिया। इसके बाद आलन्दीके ब्राह्मणोंने कहा- ‘यदि पैठणके विद्वान् तुमलोगोंको यज्ञोपवीतका अधिकारी मान लेंगे तो हमलोग भी उसे स्वीकार कर लेंगे।’

नीचे दिए गए लिंक के द्वारा आप आदर्श संत पीडीएफ डाउनलोड कर सकते हैं ।

Download

Please Rate itpost

Leave a Comment